Wednesday, December 16, 2009

पृथक होने पर क्लेश स्वाभाविक

यह विचार हमें योगेन्द्र पिन्टू ने जयपुर से भेजे हैं

3 comments:

अजय कुमार झा said...

विचार एकदम सटीक हैं और अवशयंभावी भी

परमजीत बाली said...

सही बात!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

चेतना जाग्रत करने वाला लेख!

468x60 Ads

728x15 Ads