Monday, August 18, 2008

पहला प्रयास

मैंने एक शुरुआत की है, एक धारावाहिक बनाकर, जिसका नाम है बच के रहना रे, इसका दूरदर्शन केन्द्र जयपुर पर १३ अगस्त से (५;२५ से ५;४० बजे) प्रसारण शुरू हुआ है, आप लोग इसे जरूर देखें और बताएं कि मेरी कोशिश कैसी है,बच के रहना रे कहानी है उन शातिर ठगों की है जो लोगों के भोलेपन का फायदा उठाकर उन्हें चूना लगा जाते हैं, उनके पास न कोई जादू की छड़ी है और न कोई सम्मोहन, वे बस आदमी के लालच को हवा देते हैं और बना जाते हैं बेवकूफ,हमारा यह प्रयास अगर २५प्रतिशत लोगों के लालच पर भी ठंडे छींटे दे सकें तो हम अपना प्रयास सफल मानेंगे,

शिवराज गूजर

3 comments:

शिवराज गूजर. said...
This comment has been removed by the author.
Udan Tashtari said...

अनेकों शुभकामनाए ..

बालकिशन said...

बहुत बहुत शुभकामनाएं.
ऐक्टिंग-सेक्टिंग का चानस मिलेगा क्या?
पुराना कीडा है फ़िर काट रहा है.

468x60 Ads

728x15 Ads